Belief इन लॉ ऑफ अट्रैक्शन - Belief in Law Of Attraction

Belief in Law Of Attraction - आकर्षण के सिद्धांत का पहला नियम विशवास हैं जिसको अभी हम जानेंगे कि इस नियम को कैसे इस्तेमाल करे। अगर हम यू कहे तो Law Of
Belief इन लॉ ऑफ अट्रैक्शन - Belief in Law Of Attraction

Introduction

आज हम हमारे Law of Attraction Series के पहले पड़ाव की तरफ बढ़ चुके हैं। आज की पोस्ट में हम आकर्षण के सिद्धांत का पहला नियम सीखेंगे जिसको हम Belief ( यानी विशवास ) कहते हैं।

जैसा ही हम सभी इस बात से परिचित हैं कि जैसा हम सोचते हैं हमारे साथ कुछ वैसा की होता हैं। मगर इस बात को बहुत ही कम लोग मानते हैं। इस बात को ना मानने का सबसे बड़ा कारण यही है कि उन लोगो को इस बात को सच मानने की कोई ठोस वजह नहीं मिलती। जिस व्यक्ति को आप Law of Attraction के सभी नियम के बारे में जानते हैं? अगर आपने हमारी पिछली पोस्ट नहीं देखी हैं वो यहां से हमारी पोस्ट को आसानी से पढ़ सकते हैं।

क्या आप अपने सिद्धान्त का इस्तेमाल करके अपनी मनोकामना पूरी करना चाहते हैं? अगर आपका जवाब हां हैं तो आपको Law of Attraction क्या हैं इसके बारे में जानकारी लेनी जरूरी है उसके बाद ही आप आगे सिख पाओगे।

Law of Attraction क्या हैं?

Law of Attraction एक सिद्धान्त हैं जो हर जीवित चीज पर काम करता हैं। यह सिद्धांत हमारे साथ साथ ही चलता हैं। इसी सिद्धान्त से हमारी इच्छाएं पूरी होती हैं। यह सिद्धांत एक चुम्बक की तरह काम करता हैं जैसे चुम्बक को लोह आकर्षित करता हैं ऐसे ही हमारी ज़िंदगी में हमारी सभी इच्छाएं को यह सिद्धांत आकर्षित करता हैं और पूरा करता हैं। जब आप इसको अच्छे से समझ जाओगे तो आप अपने आप ही इसको इस्तेमाल करने की कोशिश करोगे।

अब हम इस सीरीज की पहली सीढ़ी की और बढ़ते हैं जिसको हम Belief कहते हैं।

Belief in Law of Attraction

आकर्षण के सिद्धांत का पहला नियम विशवास हैं जिसको अभी हम जानेंगे कि इस नियम को कैसे इस्तेमाल करे। अगर हम यू कहे तो Law Of Attraction को शुरू करने का पहला Start Button Belief ही हैं क्योंकि विश्वास के बिना हम कोई भी काम नहीं कर सकते।

विश्वास की अगर हम बात कर ही रहे हैं तो आज की दुनिया में हम किसी न किसी पर कभी न कभी विश्वास करते ही हैं और उस विश्वास को हम आगे तक लेकर चलते हैं चाहे कैसा भी मोड़ आए।
ऐसे ही Law of Attraction का इस्तेमाल करने के लिए Belief होना जरूरी हैं। किसी भी चीज को शुरू करने के लिए उसकी बुनियाद का मजबूत होना बहुत जरूरी हैं, और बुनियाद को मजबूत करने के लिए उस पर विश्वास होना बहुत जरूरी हैं। बुनियाद का मजबूत न होना हमारे काम के करने पर बाधा दे सकता हैं। उसकी वजह से हम इस सिद्धांत का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे।

अगर मैं आपसे पुछु की आप भगवान को मानते हैं? तो काफी लोगो का जवाब हा होगा और बहुत से लोगो का जवाब ना में आएगा। मगर आपको मैं यकीन दिला दु की हमारे साथ एक Super Power जुड़ी हुई हैं, और ये हमेशा से हमारे साथ हैं। इसको आप कोई भी नाम दे सकते हैं। जिस तरह से एक वस्तु को हम हिंदी में अलग नाम से पुकारते हैं और English में अलग नाम से। मगर उस नाम के बदलने से उसके अंदर किसी भी तरह का बदलाव नहीं आता है, और ना ही उसके गुण में बदलाव आता हैं। वो वैसा का वैसा रहता हैं उसको चाहे आप कुछ भी बोले। ऐसे ही उस Super Power को आप भगवान बोलो या चमत्कार या कोई शक्ति, मगर वो हमारे साथ मौजूद हैं और वो अपना काम करती रहती हैं।

इस दुनिया में हम उस Super Power को 3 भागो में तोड़ चुके हैं जो उस पर विश्वास करने का जरिया हैं। उस Super Power को कुछ लोग Subject मानते हैं जैसे कि कोई इंसान ( जिसको हम पूजते हैं )। कुछ लोग इसको Verb मानते हैं जैसे कि कोई शक्ति। जिसको हम महसूस करते हैं कि हमारे साथ वो हैं। और कुछ लोग इसको Object के हिसाब से लेते हैं जैसे कि मुर्तिया ( जिनको मंदिर में पूजा जाता हैं )। हर किसी का विश्वास करने का तरीका अलग हैं मगर हम उस Super Power पर विश्वास करते जरूर हैं।

यह Super Power अपना काम बखूबी जानती हैं और पूरा भी करती हैं, पर वो अपना काम खुद नहीं करती वो किसी न किसी के माध्यम से करवाती हैं। जैसे फेसबुक। Facebook के Founder Mark Zuckerberg ने सिर्फ इसमें Codding करके अपना एक Software Ready कर दिया हैं जो हमारा काम आसान कर देता हैं। अगर हम कोई पोस्ट करते हैं तो उसको Owner को देखने की जरूरत नहीं हैं वो खुद ही एक ही Click में पब्लिक हो जाता हैं जो कि उस सॉफ्टवेयर की वजह से होता हैं। ऐसे ही भगवान ने Automatic Software को Install किया हुआ हैं जो अपना आप खुद ही कर देता हैं सिर्फ हमें उनको Command देने की जरूरत हैं। कहने का अर्थ हैं कि हमें उनसे मांगने की जरूरत हैं, अगर आप मांगोगे ही नहीं तो वो कुछ देगा भी नहीं। पर हर कोई उस Software को इस्तेमाल नही कर पाता, जिस से उनको ये लगता हैं कि हम इस सिद्धांत का इस्तेमाल नही कर पाएंगे।

काफी लोगो के दिमाग में एक बात घूम रही होगी कि आपने इसके बारे में बता तो दिया मगर इसको हम किस तरह से इस्तेमाल कर सकते हैं? क्या भगवान ने इसका कोई User Manual दिया हुआ है जिसको पढ़ कर हम इसके बारे में जान सके? तो मैं आपको बताना चाहूंगा कि इसका Manual आप भारत के पुराने ग्रन्थ, कुरान, गीता और बाइबल जैसी किताबो में बड़े अच्छे से बताया गया हैं। जिसको पढ़ने से आप Real वाला Law of Attraction सिख सकते हैं। आप हो सके तो उनको पढ़े या हमारी इस सीरीज के साथ बने रहे। आपको काफी जानकारी यहाँ से प्राप्त होने वाली हैं।

अगर आपको आज का नियम समझ आया और आपको अच्छा लगा है तो आप इसे ज्यादा से ज्यादा अपने दोस्तों के साथ सांझा करे, और अपना Comment जरूर दे।

आगे आने वाले नियम की जानकारी आपको Law Of Attraction in Hindi पोस्ट के अंदर मिल जाएंगे।